- Breaking News - Original Reporting - News Analysis

ऐश्वर्या राय से पनामा पेपर्स लीक मामले में ED ने क्या सवाल किए?

पनामा पेपर लीक मामले में सोमवार को ऐश्वर्या राय बच्चन से प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने 5 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की. ऐश्वर्या से उनकी तथाकथित कंपनियों और बैंक अकाउंट्स के बारे में सवाल हुए.

‘दैनिक भास्कर’ सूत्रों के हवाले से लिखता है कि ED ने ऐश्वर्या से पूछा कि उन्होंने ’50 हज़ार डॉलर में ख़रीदी कंपनी महज़ 1500 डॉलर में क्यों बेच दी? अमिताभ बच्चन की बहू बनने के बाद कंपनियों को बंद क्यों कर दिया गया?’

ED ने सोमवार को उनसे दिल्ली के लोकनायक भवन में पूछताछ की. ED के अधिकारी ऐश्वर्या के लिए सवालों की लिस्ट पहले ही तैयार कर चुके थे.

वो शाम 7:30 बजे ED ऑफिस से रवाना हुईं. उन्होंने ED के सामने केस से जुड़े कुछ दस्तावेज़ भी जमा किए हैं.

साल 2016 में ब्रिटेन में पनामा की लॉ फ़र्म के 1.15 करोड़ टैक्स दस्तावेज़ लीक हुए थे. इसमें दुनियाभर के बड़े नेताओं, कारोबारियों और बड़ी हस्तियों के नाम सामने आए थे. इन लोगों पर टैक्स की हेराफेरी का आरोप है जिसको लेकर टैक्स अथॉरिटी जांच में जुटी है.

भारत की बात करें तो क़रीब 500 लोगों के नाम सामने आए थे. इसमें बच्चन परिवार का नाम भी शामिल है.

अख़बार एक रिपोर्ट के आधार पर लिखता है कि अमिताभ बच्चन को 4 कंपनियों का डायरेक्टर बनाया गया था. इनमें से तीन बहामा में थीं जबकि एक वर्जिन आइलैंड्स में. इन्हें 1993 में बनाया गया था. इन कंपनियों की कैपिटल 5 हज़ार से 50 हज़ार डॉलर के बीच थी, लेकिन ये कंपनियां उन जहाज़ों का कारोबार कर रही थीं, जिनकी क़ीमत करोड़ों में थी.

ऐश्वर्या को पहले एक कंपनी का डायरेक्टर बनाया गया था. बाद में उन्हें कंपनी का शेयर होल्डर घोषित कर दिया गया. कंपनी का नाम अमिक पार्टनर्स प्राइवेट लिमिटेड था. इसका हेडक्वार्टर वर्जिन आइलैंड्स में था.

ऐश्वर्या के अलावा उनके माता-पिता और भाई भी कंपनी में उनके पार्टनर थे. यह कंपनी 2005 में बनाई गई थी. तीन साल बाद यानी 2008 में कंपनी बंद हो गई थी.

Leave A Reply

Your email address will not be published.